योजनाएंकृषि तकनीकखेती-किसानी

केंचुआ खाद बनाकर सालाना 1 करोड़ का बिजनेस करें, जानिए पूरा प्रोसेस

वर्मी कम्पोस्ट बनाने की स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस क्या है यह समझिए इससे सालाना एक करोड़ (Agriculture Business Idea 2022 / Vermi Compost) तक का बिजनेस किया जा सकता है।

Agriculture Business 2022 / Vermi Compost | केंद्र एवं राज्य सरकार खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए एवं जमीन की उर्वरा शक्ति बढ़ाने के लिए प्राकृतिक एवं जैविक खेती पर अधिक जोर दे रही है इसके लिए सरकार किसानों को जैविक खेती करने एवं प्राकृतिक खेती करने पर प्रोत्साहित कर रही है प्रोत्साहन स्वरूप कई योजनाएं सरकार द्वारा चलाई जा रही है। वर्तमान समय की मांग को देखते हुए खेती किसानी से जुड़ा हुआ वर्मी कंपोस्ट बनाने का काम शुरू किया जाए तो इससे एक साल में ही करोड़ों रुपए तक की आमदनी हो सकती है। क्योंकि जैविक खेती के दौरान वर्मी कंपोस्ट की अत्यधिक आवश्यकता रहती है। इसलिए इस लेख में आपको बताते हैं कि वर्मी कंपोस्ट बनाने की सरलतम व आसान विधि क्या है एवं इससे किस प्रकार कमाई की जा सकती है साथ ही सरकार इस संबंध में क्या मदद कर रही है, यह भी जानिए।

यह भी पढ़िए….डेयरी फार्मिंग से कमाए लाखों रुपए, सब्सिडी और लोन के लिए अप्लाई करने का तरीका जानिए

वर्मी कंपोस्ट बनाने की विधि स्टेप बाय स्टेप (Agriculture Business Idea 2022 / Vermi Compost)

वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने के कई तरीके हैं। सबसे आसान तरीका है बेड सिस्टम। इसमें 3-4 फीट चौड़ा और जरूरत के हिसाब से लंबा बेड बनाया जाता है। इसके लिए जमीन पर प्लास्टिक डाल दी जाती है। फिर उसके चारों तरफ ईंट से बाउंड्री बना दी जाती है। आप चाहें तो सीमेंट का भी बेड बना सकते हैं। बेड बनाने के बाद उसमें गोबर डालकर उसे अच्छी तरह से फैला दिया जाता है। उसके बाद केंचुए डालकर ऊपर से पुआल या घास-फूस डालकर ढंक दिया जाता है। फिर उस पर नियमित रूप से पानी का छिड़काव किया जाता है।

वर्मी कंपोस्ट कैसे तैयार करें?

  • वर्मी कंपोस्ट तैयार करने का सबसे आसान तरीका है वेट सिस्टम इसे स्टेप बाय स्टेप इस प्रकार समझिए
  • बेड सिस्टम में तीन चार फीट चौड़ा और जरूरत के हिसाब से लंबा बेड बनाया जाता है।
  • बेड बनाने के लिए जमीन पर प्लास्टिक डालने के बाद चारों तरफ से बाउंड्री दी जाती है।
  • इस बाउंड्री के बीच में गोबर डालकर उसे अच्छी तरह फैला दिया जाता है।
  • इसके बाद बाउंड्री में केचुआ डालकर ऊपर से पुआल/कचरा डालकर ढक दिया जाता है।
  • इस बेड के ऊपर नियमित रूप से पानी का छिड़काव किया जाता है।
  • करीब 1 महीने के बाद खाद तैयार हो जाती है, 30 फीट के एक बेड से 600 किलो तक खाद निकलती है।

वर्मी कंपोस्ट बिजनेस के दौरान इन बातों का ध्यान रखना जरूरी

  • वर्मी कंपोस्ट तैयार करने के लिए ऐसी जगह होनी चाहिए जहां पानी उपलब्धता हो और वहां आने जाने के लिए रास्ता हो।
  • यह भी ध्यान रखना जरूरी है कि वहां जलजमाव ना होता हो।
  • गोबर 15 से 20 दिन से ज्यादा पुराना नहीं होना चाहिए।
  • नियमित रूप से पानी का छिड़काव जरूरी है।
  • बेड की ऊंचाई डेढ़ फीट से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने के लिए आवश्यक चीजें

सबसे जरूरी चीज जमीन और उसकी लोकेशन है। जमीन ऐसी जगह होनी चाहिए, जहां पानी उपलब्ध हो और वहां आने-जाने के लिए रास्ता हो। ये भी ध्यान रखना जरूरी है कि वहां जलजमाव न होता हो। इसके बाद लंबी प्लास्टिक शीट, गोबर, पुआल और केंचुए की जरूरत होती है। वर्मी कंपोस्ट बनाने के लिए एक फीट लंबे बेड के लिए 50 किलो गोबर की जरूरत होती है। अगर हम 30 फीट लंबा बेड बना रहे हैं तो हमें 1500 किलो गोबर की जरूरत होगी। अगर आपके पास गोबर की उपलब्धता कम है, तो आप 30% गोबर और बाकी घासफूस या ऐसी कोई भी चीज मिला सकते हैं, जो आसानी से सड़ सके।

एक फुट बेड के लिए एक किलो केंचुए की जरूरत

वर्मी कंपोस्ट बनाने के लिए जहां तक केंचुए की बात है। एक फुट बेड के लिए एक किलो केंचुए की जरूरत होती है। केंचुआ कम हों तो भी काम चल जाएगा। बस खाद तैयार होने में वक्त थोड़ा ज्यादा लगेगा, क्योंकि जितने अधिक केंचुए होंगे उतनी जल्दी खाद तैयार होगी। सब कुछ सही रहा तो 30 फीट लंबे बेड से खाद बनने में करीब महीने का वक्त लगता है और करीब 2.5 महीने तक इससे 5-6 दिन के अंतराल पर खाद निकाली जा सकती है। एक बेड से करीब 600 किलो तक खाद निकलती है।

यह भी पढ़ें…देसी गाय पालन योजना में अनुदान दिए जाने की यह है संपूर्ण प्रक्रिया, समझिए आसान तरीके से

गोपालक किसानों को शिवराज सरकार ने दी बड़ी सौगात, देसी गाय पालने पर हर महीने मिलेंगे रुपए

केंचुए की कौन सी प्रजाति सही होती है?

केंचुए की कई प्रजातियां होती हैं। भारत में ज्यादातर लोग इटालियन प्रजाति के केंचुए का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा ऑस्ट्रेलियाई आइसोनिया फेटिडा भी अच्छी प्रजाति है। यह एक दिन में एक किलो गोबर खाता है और वह डबल भी हो जाता है, यानी जो लोग खाद के साथ केंचुए का बिजनेस करना चाहते हैं, उनके लिए यह बेहतर विकल्प है। शुरुआती तौर पर खाद तैयार करने वाले से या कृषि विज्ञान केंद्र से भी बहुत ही कम कीमत पर केंचुए की खरीदी आप कर सकते हैं।

कहां ले सकते हैं ट्रेनिंग?

किसानों के लिए भारत सरकार की एक स्कीम है ACABC, यानी एग्री क्लिनिक एंड एग्री बिजनेस सेंटर। यहां से वर्मी कम्पोस्ट के साथ ही फार्मिंग की दूसरी तकनीकों को लेकर ट्रेनिंग ली जा सकती है। इसके लिए 45 दिन का ऑनलाइन और रेसिडेंशियल कोर्स होता है। जिसकी फीस 500 रुपए होती है। यहां ट्रेनिंग के साथ ही लोन लेने के लिए प्रोसेस और डॉक्युमेंट बनाने के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी जाती है।

वर्मी कंपोस्ट बिजनेस के लिए लोन की क्या है व्यवस्था?

वर्मी कंपोस्ट बनाने का बिजनेस शुरू करना करने के इच्छुक युवाओं एवं खेती किसानी से जुड़े लोगो को आसानी से लोन उपलब्ध हो जाता है। जनरल कैटेगरी के किसान को 36% और SC,ST, OBC और महिला को 46% सब्सिडी पर 20 लाख रुपए का लोन मिल सकता है। www.agriclinics.net पर विजिट करके आप अधिक जानकारी ले सकते हैं।

वर्मी कंपोस्ट बिजनेस : कम लागत में कमाएं ज्यादा मुनाफा

वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने के लिए बहुत ज्यादा लागत की जरूरत नहीं होती। पहले एक बेड से शुरुआत करनी चाहिए। वह बेड तैयार हो जाए, तो उसी के केंचुए से दूसरा और फिर ऐसा करके तीसरा, चौथा बेड तैयार करना चाहिए। वर्मी कम्पोस्ट बनने के बाद ऊपर से खाद निकाल ली जाती है और नीचे जो बचता है, उसमें केंचुए होते हैं। वहां से जरूरत के हिसाब से केंचुए निकालकर दूसरे बेड पर डाले जा सकते हैं। ऐसा करने से हमें बार-बार केंचुआ खरीदने की जरूरत नहीं होगी। खाद की लागत 3 रुपए प्रति किलो आती है। इसे थोक में 7 रुपए से लेकर 20 रुपए प्रति किलो तक बेचा जा सकता है।

साल भर में करोड़ों का बिजनेस हो सकता है

Agriculture Business 2022 / Vermi Compost |इस बिजनेस के बारे में एक उदाहरण से समझिए कि मान लीजिए आपके पास 100 बेड पर वर्मी कम्पोस्ट तैयार करते हैं तो एक साइकिल यानी 2.5 महीने में कम से कम 200 क्विंटल खाद का प्रोडक्शन होगा। अगर इसे 20 रुपए प्रति किलो की दर से बेचा जाए तो 4 लाख रुपए की सेल होगी। अब इसमें से लागत यानी 60 हजार रुपए निकाल लिया जाए तो 2.5 महीने में 3.40 लाख की कमाई होगी। यानी महीने की कमाई 1.13 लाख रुपए से ज्यादा। मतलब साफ है कि वर्मी कम्पोस्ट फसल के साथ-साथ हमारी कमाई में भी खाद डालने का काम करता है।

यह भी पढ़ें….

पशुपालकों के लिए पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड योजना, बैंक में केसीसी नहीं है तो भी बिना गारंटी के मिलेगा लोन

पशुपालन के साथ ऑर्गेनिक खेती किसानों के लिए बहुत फायदेमंद, जानिए कैसे करें

किसान पशुओं का केसीसी बनाएं, भैंस पर 18000 व गाय पर मिलेंगे 15000 रुपए, जानिए पूरी प्रोसेस

जुड़िये चौपाल समाचार से-

ख़बरों के अपडेट सबसे पहले पाने के लिए हमारे WhatsApp Group और Telegram Channel ज्वाइन करें और Youtube Channel को Subscribe करें।

नोट :- धर्म, अध्यात्म एवं ज्योतिष संबंधी खबरों के लिए क्लिक करें।

नोट :- टेक्नोलॉजी, कैरियर, बिजनेस एवं विभिन्न प्रकार की योजनाओं की जानकारी के लिए क्लिक करें।

राधेश्याम मालवीय

मैं राधेश्याम मालवीय Choupal Samachar हिंदी ब्लॉग का Founder हूँ, मैं पत्रकार के साथ एक सफल किसान हूँ, मैं Agriculture से जुड़े विषय में ज्ञान और रुचि रखता हूँ। अगर आपको खेती किसानी से जुड़ी जानकारी चाहिए, तो आप यहां बेझिझक पुछ सकते है। हमारा यह मकसद है के इस कृषि ब्लॉग पर आपको अच्छी से अच्छी और नई से नई जानकारी आपको मिले।
Back to top button

Adblock Detected

Please uninstall adblocker from your browser.